मेहंदी डिजाईन

Latest Full Hand Bridal Henna/Mehndi Designs Tutorial – Indian/Pakistani Bridal Full Hand Mehendi Henna Design

पूरी मेहंदी भी लगानी नहीं आती अब तक

क्यूँ कर आया तुझे ग़ैरों से लगाना दिल का“

– दाग़ देहलवी

 

अल्लाह-रे नाज़ुकी कि जवाब-ए-सलाम में

हाथ उस का उठ के रह गया मेहंदी के बोझ से

~रियाज़ ख़ैराबादी

 

वो जो सर झुकाए बैठे हैं,  हमारा दिल चुराए बैठे हैं…

हमने कहा हमारा दिल लौटा दो,  वो बोली-  हम तो हाथो में मेहँदी लगाये बैठे हैं…

 

खुदा ही जाने क्यूँ तुम हाथो पे मेहँदी लगाती हो..!

बड़ी नासमझ हो फूलों पर पत्तों के रंग चढ़ाती हो..!!

 

गोरी सी हथेली पर, सांवली सी मेहंदी..

mehndi shayari facebook,

 

खुशबू और प्यार का रंग.. तेरा साथ हो, तेरा संग…!!

मेरा मुस्कुराना, पलके गिराना, और शरमाना,

सूरज की रोशनी, पर लाली- सी ओढनी…

शाम में जैसे, रात की ठंडक,

तेरा साथ हो, तेरा संग….!!!!

 

करतूतें तो देखियें मेहंदी की

तेरा नाम क्या लिखी शर्म से लाल हो गई

 

मैं न लगाऊँगी मेहंदी तेरे नाम की

कम्बख्त रंग चढ़ कर उतरता ही नही

 

मेहंदी रचाई थी मैने इन हाँथों में

जाने कब वो मेरी लकीर बन गई

 

पीपल के पत्तों जैसा मत बनो

जो वक्त आने पर

 सूख कर गिर जाते है

 बनना है तो मेहँदी के पत्तों जैसा बनो

mehndi shayari in hindi font

जो पिसकर भी  दूसरों की जिंदगी में

 रँग भर देते है।

 

उसे शक है हमारी मुहब्बत पर लेकिन

गौर नहीं करती मेहँदी का रंग कितना गहरा निखरा हैं

 

माना कि सब कुछ पा लुँगा मैं अपनी जिन्दगी में,

मगर वो तेरे मेहँदी लगे हाथ मेरे ना हो सकेंगे..

कुछ रिश्तें मेहँदी के रंग की तरह होते है

शुरुवात में चटख,बाद में फीके पड़ जाते है

 

सुर्ख़-रू होता है इंसाँ ठोकरें खाने के बाद

रंग लाती है हिना पत्थर पे पिस जाने के बाद

 

मेरे सुर्ख़ लहू से चमकी कितने हाथों में मेहंदी

शहर में जिस दिन क़त्ल हुआ मैं ईद मनाई लोगों ने

~Zafar ~

 

mehndi ki shayari,

रातभर बेचारी मेहंदी पिसती हैं पैरों तले

क्या करू, कैसे कहूँ रात कब कैसे ढले…

~गुलजा़र

 

क्यूँ न तुझ को हिना से हो रग़बत

यूँ कोई और पाएमाल तो हो

 

इक सुब्ह थी जो शाम में तब्दील हो गई

इक रंग है जो रंग-ए-हिना हो नहीं रहा

~काशिफ़_हुसैन

 

दोनों का मिलना मुश्किल है दोनों हैं मजबूर बहुत

उस के पाँव में मेहंदी लगी है मेरे पाँव में छाले हैं ~AmeeqHanafi

 

मेहंदी लगाए बैठे हैं कुछ इस अदा से वो

मुट्ठी में उनकी दे दे कोई दिल निकाल के ~RiyazKhairabadi

 

ये भी नया सितम है हिना तो लगाए ग़ैर